छाती में कफ का इलाज:बदलते मौसम के कारण सर्दी, खांसी, जुकाम, बुखार के साथ ही गले और छाती में बलगम बनने लगता है। बलगम बनने से सांस लेने में तकलीफ होने लगती है। यह अपने साथ सेहत से जुड़ी और भी बहुत सी परेशानियां लेकर आती है। लोग इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए दवा और सिरप का सेवन करते है लेकिन इसे जल्दी फर्क महसूस नहीं होता। छाती और गले में जमा बलगम को दूर करने के लिए घरेलू उपायों को अपनाया जा सकता है।

छाती और गले में जमे बलगम के लिए काली मिर्च :-

2 कप पानी में 15-20 काली मिर्च डालकर तब कर उबाले जब तक वह आधा न हो जाए। अब इसको गुनगुना होने के लिए छोड़ दे और शहद डालकर पीएं। यह प्रयोग रोज दो बार किया जा सकता है और लगभग सभी रोगियों को लाभ देता है ।

छाती और गले में जमे बलगम के लिए शहद और नींबू :-

शहद में कुदरती गुण और नींबू में सिट्रिक अम्ल होते है। जो कफ को खत्म करने में सहायक होते हैं। शहद में नींबू मिलाकर सेवन करने से कफ से राहत मिलती है। यह मिश्रण कफ को बहुत तेजी से काटता है जिस कारण वह मुख के रास्ते निकलना शुरू कर देता है ।

छाती और गले में जमे बलगम के लिए हल्दी :-

बलगम को खत्म करने के लिए हल्दी सबसे प्रभावशाली है। रोजाना 1 गिलास हल्दी वाले दूध में शहद मिलाकर पीने से छाती में जमा बलगम से जल्दी राहत मिलती हैं। हल्दी की प्रकृति ऊष्ण और प्रभाव सभी तरह के संक्रमण को समाप्त करने वाला होता है और ये दोनों ही गुण बलगम को समाप्त करने के लिए लाभकारी होते हैं ।

ती और गले में जमे बलगम के लिए अंगूर का जूस :-

अंगूर में एक्सपेक्टोरेंट होता हैं जो फेफड़ों के लिए और बलगम दूर में सहायक होता है। एक हफ्ते तक अंगूर के जूस में दो चम्मच शहद मिला कर पीने से फायदा मिलेगा। यह बलगम को काटकर मल के साथ और मुख के रास्ते से निकलने में मदद करता है ।

छाती और गले में जमे बलगम के लिए प्याज और नींबू :-

1 प्याज को साफ करके पीस लें। इस में नींबू का रस मिलाएं। एक कप पानी में इस को डालकर 3 मिनट के लिए उबालें। ठंडा होने पर दिन में तीन बार पीने बलगम की समस्या दूर हो जाएगी।
छाती और गले में जमे बलगम को साफ करने वाले उपायों की जानकारी वाला यह लेख आपको अच्छा और लाभकारी लगा हो तो कृपया लाईक और शेयर जरूर कीजियेगा । आपके एक शेयर से ही किसी जरूरतमंद तक सही जानकारी पहुँचती है और हमको भी आपके लिए और बेहतर लेख लिखने की प्रेरणा मिलती है । इस लेख के समबन्ध में आपके कुछ सुझाव हों तो कृपया कमेण्ट करके हमको जरूर सूचित करें ।

http://hbnteam.com/wp-content/uploads/2017/12/5454-1.jpghttp://hbnteam.com/wp-content/uploads/2017/12/5454-1-150x150.jpgAdminHINDI
छाती में कफ का इलाज:बदलते मौसम के कारण सर्दी, खांसी, जुकाम, बुखार के साथ ही गले और छाती में बलगम बनने लगता है। बलगम बनने से सांस लेने में तकलीफ होने लगती है। यह अपने साथ सेहत से जुड़ी और भी बहुत सी परेशानियां लेकर आती है। लोग इस...